हिम्मत को तू अपनी फिर थाम ले

हौंसले को अपने न हारने दे,
हिम्मत को तू अपनी फिर थाम ले,
होगा कदमो तेरे ये आसमां,
बात मेरी बस तू एक मान ले,
हिम्मत को तू अपनी फिर थाम ले।।

भर ले जोश अपने इरादो मे तू,
चल दे आगे फिर देख न पीछे तू,
शर्त बस तू मेरी एक मान ले,
हिम्मत को तू अपनी फिर थाम ले।।

तू चलाचल तेरे साथ होगा ये जहाँ,
जायेगा तू जहांं,लोग देखेगें वहां,
प्रतिभा को बस अपनी जान ले,
हिम्मत को तू अपनी फिर थाम ले।।

आजमा ले कभी इस जमाने को तू,
है तू ही बादशाह बस ये जान ले तू,
बस हकीकत को पहचान ले,
हिम्मत को तू अपनी फिर थाम ले।।

न घबराना देख तू कठिन रास्ता,
होगा तेरा कई उलझनो से वास्ता,
बस मंजिल से तू अपनी नजर बांध ले,
हिम्मत को तू अपनी फिर थाम ले।।

आसां न हो तेरी मंजिल अगर,
धीरे ही सही तू चलना मगर,
धीरज से ही तू बस काम ले,
हिम्मत को तू अपनी फिर थाम ले।।

गलतियां करने से तू हरगिज न डर,
शर्त बस यही है तू कोशिश तो कर,
संघर्ष ही जीवन है बस ये मान ले,
हिम्मत को तू अपनी फिर थाम ले।।

Leave a Comment