कुछ बड़ा करो

करना है तो कुछ बड़ा करो,

चुनौतियों से फिर क्यों डरो।

चुनौतियाँ ही तो अवसर है,

आगे बड़ो मंजिल पथ पर है।

कायर बनकर मत बैठो,

एकबार तो जरा उठकर देखो।

लड़कर मरना फक्र है,

भीरू की तो कब्र है।

सिर्फ बाते नही,काम करो,

सिर्फ सपने नही,साकार करो।

हारने वाले का कोई नाम नही है,

और जीतना भी बच्चों का काम नहीं है।

मरना तो एक दिन ही है,

हरपल मे सौ दिन हैं।

दिन न यूँ चिंता मे बर्बाद करो,

तुम वीर हो न निराश करो।

Leave a Comment